ऋषिकेश विधानसभा के विकास के लिए की गई सीएम की घोषणाओं की समीक्षा

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने विगत दिनों ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत मुख्यमंत्री द्वारा की गई घोषणाओं पर अभी तक की गई शासकीय एवं विभागीय कार्यवाही की जानकारी के लिए विभिन्न विभागों के सचिव एवं उच्च अधिकारियों के संग बैठक की। बैठक के दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने अधिकारियों से सभी घोषणाओं पर उचित कार्यवाही करने के लिए एक समय सीमा निर्धारित की एवं उस पर शीघ्र शासनादेश जारी करने के निर्देश दिए जिससे जल्द ही घोषणाओं को धरातल पर उतारा जा सके।
विधानसभा भवन देहरादून में आयोजित बैठक के दौरान शहरी विकास, पर्यटन विभाग, सिंचाई विभाग, आवास विभाग, वन विभाग, ऊर्जा विभाग, युवा कल्याण विभाग एवं गृह विभाग के सचिव एवं संबंधित विभागों के उच्च अधिकारी मौजूद थे। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा 18 सितंबर को ऋषिकेश में संपन्न हुई जन आशीर्वाद रैली के दौरान की गई घोषणाओं पर विभाग द्वारा की गई कार्यवाही से संबंधित जानकारी प्राप्त कर अधिकारियों से चर्चा की। विधानसभा अध्यक्ष ने प्रत्येक घोषणा से संबंधित विभाग वार अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की एवं एक निश्चित समय सीमा तय कर अधिकारियों को घोषणाओं पर उचित कार्यवाही कर शासनादेश जारी करने एवं योजनाओं को धरातल पर लाने के निर्देश दिये।
अवगत करा दें कि 18 सितंबर को ऋषिकेश में जन आशीर्वाद रैली के दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत विभिन्न विकास कार्यों को लेकर घोषणा की थी जिनमें संजय झील का सौंदर्यकरण कर पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किए जाने, बैराज स्थित झील पर साहसिक पर्यटन एवं वाटर स्पोर्ट्स प्रारंभ कराए जाने, ऋषिकेश में बहुमंजिला पार्किंग का निर्माण कराए जाने, मां गंगा की धारा को निरंतर व व्यवस्थित स्वरूप में त्रिवेणी घाट पर लाए जाने, कैंपा योजना के अंतर्गत वनों से सटे गांव जैसे सत्यनारायण मंदिर से गौहरीमाफी, साहब नगर, भट्टोंवाला और रुषाफार्म में सड़क तथा विद्युत एवं अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने, गुलदार प्रभावित क्षेत्र रायवाला, साहबनगर, खदरी के निवासियों की जान माल की सुरक्षा का प्रबंध किए जाने, खदरी, लक्कड़घाट, गुमानीवाला, रुषा फार्म, भट्टूोंवाला, छिद्दरवाला आदि क्षेत्रों में हाथी व अन्य वन्यजीवों से सुरक्षा के प्रबंध किये जाने, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र गौहरीमाफी, साहब नगर, ठाकुरपुर गढ़ीमयचक में बाढ़ सुरक्षा के लिए प्रभावी कार्यवाही यथाशीघ्र प्रारंभ किए जाने, ग्रामीण क्षेत्रों में हाईटेक मिनी स्टेडियम की स्थापना, छिद्दरवाला में सौंग नदी एवं जाखन नदी के संगम से सौंग नदी के बाएं तट पर साहबनगर गांव तक बाढ़ सुरक्षा योजना बनाए जाने, रायवाला नहर एवं पुराने शाखा गूलों के पुनरोद्धार व नई पक्की गूलों के निर्माण की योजना बनाये जाने, गौहरीमाफी नहर एवं पुरानी शाखा गूलों के पुनरोद्धार व नई पक्की गूलों के निर्माण किये जाने, महिला एवं पुरुषों हेतु हाईटेक शौचालय निर्माण किये जाने, आस्था पथ पर स्टैंडर्ड साइनेजेज, लाइटिंग, बैंचेस आदि की व्यवस्था किये जाने, ऋषिकेश को योगा हब के रूप में विकसित किये जाने एवं 20 करोड़ रुपए सड़क मार्गों के निर्माण के लिए, आईडीपीएल, कृष्णानगर को न उजाड़े जाने, उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलनकारियों का चिन्हीकरण कर प्रमाण पत्र जारी करने तथा शासकीय सेवाओं में क्षैतिज आरक्षण दिए जाने संबंधित मुख्य घोषणाएं की गई थी।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि किसी भी घोषणा पर कार्यवाही पर लेटलतीफी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि जल्द ही सभी घोषणाओं का शासनादेश कर धरातल पर उतारकर जनता को इसका लाभ मिलना चाहिए। इस अवसर पर बैठक में मौजूद घोषणाओं से संबंधित विभागीय सचिव एवं अधिकारियों ने विधानसभा अध्यक्ष को आश्वस्त करते हुए उनके द्वारा तय किए गए समय सीमा पर विभागीय कार्यवाही को पूर्ण करने का आश्वासन दिया।
इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव आनंद वर्धन, सचिव नेहा वर्मा, प्रमुख सचिव आरके सुधांशु, सचिव हरीश सेमवाल, सचिव विनोद कुमार सुमन, निदेशक राजाजी टाइगर रिजर्व डीके सिंह, निदेशक शहरी विकास ललित मोहन रयाल, अपर सचिव पर्यटन युगल किशोर पंत, रीजनल ऑफिसर एनएचएआई सीके सिंह,विभव मित्तल, विक्रम सिंह राणा, एसके टम्टा,जी एस रावत, आरसी कैलकुला, रचना थपलियाल, अनिरुद्ध भंडारी, चंद्र मोहन पांडे, शक्ति प्रसाद आदि सहित अनेक अधिकारी मौजूद रहे।