Almora news

लोहाघाट से भाजपा विधायक को पार्टी ने थमाया नोटिस

अनुशासनहीनता के मामले में उत्तराखंड भाजपा ने अपनी ही पार्टी के विधायक पूरन सिंह फत्र्याल को नोटिस जारी किया है। प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार की ओर से जारी नोटिस में विधायक को सात दिन का समय जवाब देने को कहा गया हैं।

प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि पार्टी ने विधायक फत्र्याल के सार्वजनिक मंचों से की गई बयानबाजी का संज्ञान लिया है। कहा कि भाजपा एक अनुशासित पार्टी है, जो आचरण विधायक की ओर से किया गया है, उस संबंध में उनसे पूछा गया है। उन्होंने पार्टी फोरम से बाहर सार्वजनिक रूप से जो बयानबाजी की है, उससे सरकार और पार्टी की छवि धूमिल हो रही है। कारण बताओ नोटिस में भी विधायक के विधानसभा में नियम 58 के तहत कार्य स्थगन का प्रस्ताव लाए जाने पर एतराज जताया गया है।

यह है मामला
लोहाघाट विधायक पूरन सिंह फर्त्याल का आरोप है कि सामरिक महत्व की टनकपुर-जौलजीवी सड़क के टेंडर में करोड़ों का घोटाला हुआ है। वे इस मामले में ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। उनकी मांग पर इस प्रकरण में कई इंजीनियरों के खिलाफ कार्रवाई हो चुकी है। ठेकेदार का टेंडर भी निरस्त हो चुका है। सरकार के फैसले के खिलाफ ठेकेदार ने कोर्ट में गुहार लगाई। आर्बिट्रेटर ने ठेकेदार के पक्ष में फैसला दिया। सरकार को आदेश दिया कि वह ठेकेदार को करीब सात करोड़ रुपये भुगतान करे। सरकार ने चीन के साथ सीमा विवाद को देखते हुए सामरिक महत्व का तर्क दिया। कहा कि फैसले को अदालत में चुनौती देने से सड़क निर्माण का मामला लंबा खिंच जाएगा। इसलिए ठेकेदार को यह काम दे दिया गया और उसने भी सरकार से धनराशि नहीं ली। लेकिन विधायक इस पूरे मामले में गंभीर अनियमितता की शिकायत कर रहे हैं।

More from अल्मोडा

कुमाऊं में गुलदारः अल्मोड़ा में ली जान, रामनगर व हल्द्वानी में दो पर जानलेवा हमला

उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में गुलदार के आतंक से इन दिनों लोग भयभीत है। दो दिन के अंदर यहां एक बच्ची की हमले से मौत हो गई, जबकि दो लोग घायल हो गए है। अल्मोड़ा के भिकियासैंण नगर पंचायत के … अधिक पढ़े …

विधायक पत्नी बोली, गवाह को धमकी दे रही है महिला

भाजपा विधायक महेश नेगी पत्नी रीता नेगी ने नेहरू काॅलोनी थाने में सोमवार को एक ओर तहरीर दी। बताया कि अल्मोड़ा की महिला उनके गवाह को धमका रही है। उन्होंने कार्रवाई की मांग की। इस पर पुलिस ने जांच भी … read more

गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड मे दर्ज हुआ उत्तराखंड में उत्पादित सुगंधित व औषधीय धनिया पौंधा

उत्तराखंड, अल्मोड़ा जनपद, ताड़ीखेत विकास खंड, बिल्लेख गांव के केवलानंद उप्रेती के सिविल इंजीनियर पुत्र गोपाल दत्त उप्रेती द्वारा व्यक्तिगत प्रयासो के बल अपने बिल्लेख गांव स्थित सेव बगान में सात फुट एक इंच ऊंचे सुगंधित व औषधीय धनिये के … read more

एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज

बीते 30 मई को मैनपुरी निवासी केसी दुबे ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को टैग करते हुए ट्वीट किया था कि मैनपुरी में उनके घर के आसपास एक मानसिक रूप से दिव्यांग सड़कों पर भटक रहा है। लॉकडाउन के चलते … read more

आयुष्मान कार्ड धारक ने दर्ज कराई शिकायत तो चिकित्सक ने कर दिया डिस्चार्ज

अल्मोड़ा जिला अस्पताल में भर्ती आयुष्मान कार्डधारक मरीज ने बाजार की दवाइयां लिखने पर सीएम पोर्टल पर शिकायत कर दी। जिसकी जांच शुरू होने पर मरीज का इलाज कर रहे वरिष्ठ फिजीशियन नाराज हो गए और सोमवार सुबह मरीज को … अधिक पढ़े …

वैकल्पिक खेती को अपनाना होगा, फाईबर और एरोमा में व्यापक सम्भावनाएंः सीएम

अल्मोड़ा स्थित उदयशंकर नृत्य एवं संगीत अकादमी में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और केंद्रीय युवा एवं खेल राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने दीप प्रजवल्लित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर उत्तराखण्ड सरकार में केबिनेट मंत्री यशपाल आर्य, अरविंद पाण्डे, … read more

राज्य बनने के बाद दूसरी बार आयोजित हुई अल्मोड़ा में कैबिनेट की बैठक

सांस्कृतिक नगरी के रुप में विख्यात अल्मोड़ा में राज्य बनने के बाद दूसरी बार कैबिनेट बैठक हुई है। इसमें लंबे समय से प्रतीक्षारत जल नीति-2019 को मंजूरी दे दी गई। इसमें राज्य में जल संरक्षण व जल दोहन को लेकर … अधिक पढ़े …

अल्मोड़ा को मिली 99 करोड़ रुपये के विकास कार्यों की सौगात

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अल्मोड़ा में 327 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले सोबन सिंह जीना राजकीय आयुर्विज्ञान और शोध संस्थान (मेडिकल कालेज) का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने मेडिकल कालेज के अवशेष निर्माण कार्यों को यथाशीध्र पूर्ण करने … अधिक पढ़े …

पलायन रिपोर्टः 10 सालों में अल्मोड़ा जिले से 70 हजार लोगों का पलायन

उत्तराखंड के पर्वतीय जनपदों से मूलभूत सुविधाओं के अभाव से लोग पलायन कर रहे हैं। अल्मोड़ा जनपद में वर्ष 2001 से 2011 तक दस सालों में करीब 70 हजार लोग पैतृक गांव से पलायन कर गए। 646 पंचायतों से 16207 … अधिक पढ़े …